Login

Dharma

7 Ganeshas from 7 Temples Across India

In this article, Pankaj Saxena discusses seven most exquisite vigrahas of Ganesha, all across the country, through six states and seven temples. The article also discusses the history of these temples and places.

Read More

Agenda for Hindu Survival: What we can do as individuals

While preservation is a long-term agenda and a continuous process that cannot be ignored, what is immediate and a matter of our survival is the protection of our civilization by countering and nullifying the challenges being posed by inimical forces of Adharma.

Read More

ईसाई मिशनरी और जाति-संस्था

सन् १८५७ के पूर्व का विशाल मिशनरी साहित्य एवं पत्र-व्यवहार धर्मांतरण के मार्ग में दो ही बाधाओं का उल्लेख करता है। एक, जाति-संस्था के कड़े बंधन, जिसके कारण धर्मांतरित व्यक्ति जाति से बहिष्कृत कर दिया जाता था। दूसरा कारण था पूरे समाज में ब्राह्मणों के प्रति अपार श्रद्धा का भाव। ब्राह्मणों की नैतिक-बौद्धिक श्रेष्ठता को चुनौती दे पाने में मिशनरी स्वयं को असमर्थ पा रहे थे। अपने इस अनुभव के कारण ईसाई मिशनरियों ने जाति-संस्था को ब्राह्मणवाद की रचना मानकर उसे तोड़ना ही ईसाई धर्म का मुख्य लक्ष्य घोषित कर दिया।

Read More

And Shri Rama Returns to Ayodhya!

Today on 5th August 2020, after hundreds of years, Shri Rama is coming back to Ayodhya. After the sacrifice of millions of Hindus, this generation is lucky enough to see the Grand Rama Temple built at Ayodhya. This is a story of how this happened. Jai Shri Rama.

Read More

Ayodhya: The Concept of the Sacred Kshetra

While Hindus, recognize Valmiki’s Ramayana as a text of Itihasa, the Indian conception of the past with its foundation in cyclical time and pedagogical form, has no parallel to the modern secular concept of unidirectional positivistic historicism.

Read More

जाति-विहीन समाज का सपना

क्या अपने लंबे अनुभव के प्रकाश में यह आवश्यक नहीं कि हम नए सिरे से जाति-संस्था को समझने का प्रयास करें? क्यों यह जाति-संस्था समूचे विश्व में केवल भारत और विशेषकर हिंदू समाज का ही वैशिष्ट्य है? भारतीय मिट्टी और इतिहास में इसकी जड़ें कहाँ हैं? यदि इसके पीछे कोई जीवन-दर्शन है तो वह क्या है? यदि यह मानव-विरोधी, काल-बाह्य और अप्रासंगिक संस्था है तो यह अपने आप मर क्यों नहीं जाती? क्या है जो इसे जिंदा रखे हुए है? पर इन सब प्रश्नों में प्रवेश करने के पूर्व आवश्यक है कि हम यह जानें कि यूरोपीय यात्रियों, मिशनरियों, ब्रिटिश शासकों इत्यादि ने जाति-संस्था को समय-समय पर किस रूप में देखा और उसके प्रति क्या रणनीति अपनाई?

Read More

When The Journey To Happiness Throws Two Paths

Almost every thinking Indian must have had this dilemma at least once in his mind: whether to enjoy life or to pursue the Ultimate Truth and devote one's life to knowledge. Nithin Sridhar in this brief piece answers this question.

Read More

बौद्ध मत की हिन्दू धर्म के साथ एकात्मकता

वामपंथी विश्लेषकों द्वारा महात्मा बुद्ध और बौद्ध मत को सनातन हिन्दू धर्म के विरुद्ध प्रतिक्रयावाद के रूप में प्रस्तुत किया जाता है। इस लेख में सौरभ शुक्ला ने अनेक उदाहरणों के द्वारा बौद्ध मत के सनातन धर्म के साथ साम्य को दिखाया है और ऐसा करने के पीछे उनके निहितार्थ को समझाया है।

Read More

The Fourth Way

Materialism is about being, prophetic visions are about transportation of being to rapture upon death, mindful emptiness is enlargement of being to mind, whereas the fourth way is about becoming and creativity and joyful life.

Read More

ऋत (ṚTA): Nature’s Amazing Cycles, Wildernesses and Biodiversity – 1

Life evolved, enriching Earth to make up Nature, and why we must maintain eternal obligation towards Earth and Nature. What played out in this interaction of the living and non-living was the merging of the amazing cycles of living and non-living components of Nature, as cycles of Living Nature got aligned with the preexisting pre-Life cycles of Earth. In this article, we shall discover these amazingly beautiful cycles, periodicities and rhythms of Earth and Nature (which Vaidiks normatively call ṚTA). We shall also study habitats and biodiversity.

Read More
Centre For Indic studies
X