Login

Dharma

Visiting a Temple

In this beautiful piece full of personal experience, traditional wisdom and overflowing bhakti, the author here tells us how to visit a temple? What bhava shall one take to a temple, while having darshan of the deity? He discusses how people often misapply great principles and thus fail to get the most out of a temple visit. Read this riveting and deeply imploring piece to know, how to visit a temple.

Read More

The Ethical Paradox of the Jñāna-Karma Dialectic and Its Solution in the Yoga Vāśiṣṭha – 1

Sep 25,20by Sreejit Datta

In this article, Sreejit Datta analyzes the age-old dilemma: whether to seek self-realization or to engage whole-heartedly in the welfare of the society or those who are in need? Some term exclusive efforts for self-realization as selfish. Datta analyzes Mokshashastras and comes to the conclusion that there is really no dichotomy between the two.

Read More

Krsna’s Opening Remarks in the Gita

In this beautiful piece, Srinath Mohandas explains the response of Krsna to Arjuna’s plight. He analyzes three perspectives to Arjuna’s reaction to the ongoing war. The one by Sanjaya, the one by Arjuna himself and the most important of all by none other than Krsna. He analyzes these perspectives to glean some wisdom for us in these times.

Read More

तंत्र ४ – तंत्र के बारे में भ्रांतियाँ

पश्चिम में ही नहीं, भारत में भी, तंत्र के बारे में बहुत सी भ्रांतियाँ फैली हुई हैं| उनमें से सबसे बड़ी यह है कि इसमें कई प्रकार की दुष क्रियाएं होती है और इसका सम्बन्ध केवल उन्मुक्त काम से ही है| रजनीश मिश्र हमें बताते हैं कि तंत्र वास्तव में है क्या और इसका सम्बन्ध योग ध्यान आदि से क्या है| वे हमें यह भी बताते है कि तंत्र के सम्बन्ध में प्रमुख भ्रांतियाँ क्या क्या है और ऐसी भ्रांतियाँ क्यों फैलीं

Read More

Reflections on Hindu Identity

In this brief article, Nithin Sridhar reflects upon the particulars of Hindu identity. India is vying for world leadership in 21st century but without deciding the identity of the Hindu this quest won't be very fruitful.

Read More

The Living and the Historical Temple

Which is better? The living or the historical temple? The living institution or the historical structure? In this article, Pankaj Saxena discusses the possible attitudes that we can take about maintaining our heritage. It is both a reservoir of our history and also a living institution. How to treat the Hindu Temple will also be telling about how the Hindus are going to treat their heritage and culture in general.

Read More

तंत्र ३ – आगम : शिव पार्वती का संवाद

आगम उपदिष्ट हैं – अर्थात शिव और पार्वती के संवाद के रूप में हैं| काव्य के ग्रंथों में आचार्य अभिनव गुप्त ने जब सहृदय की परिभाषा दी अपनी टीका में, तो इसी को हृदय संवाद कहा| अर्थात शिव और पार्वती का संवाद कोई दो व्यक्तियों के बीच का संवाद नहीं है| यह संवाद है हृदय का| हृदय का ही एक पक्ष प्रश्न करता है| दूसरा उसको समझता है, उत्तर देता है| इस तरह का एक एकत्व का संवाद है यह|

Read More

तंत्र २ – तंत्र की अवधारणा

इस लेख में डॉ. रजनीश मिश्र ने तंत्र की अवधारणा को समझाने का प्रयत्न किया है| वे बताते हैं कि तंत्र एक साधना पद्धति है और ज्ञान के उपार्जन की एक पद्धति है| तंत्र और आगम कैसे सभी प्रान्तों और काल खण्डों में प्रचलित रहे हैं यह भी हमें इस लेख से पता चलता है|

Read More

तंत्र १ : भारत – एक आध्यात्मिक संस्कृति

इस लेख माला के पहले लेख में डॉ. रजनीश मिश्र तुलना करते हैं तीन महान संस्कृतियों की और यह बताते हैं कि भारतीय संस्कृति की विशेषता क्या है और क्यों उसे एक ज्ञान संस्कृति के रूप में ही सदैव देखा जाता रहा है। इसके पश्चात वो आगम और निगम ग्रंथों की संक्षिप्त परिभाषा देते हुए परा और अपरा विद्याओं के बारे में बताते हैं। यह लेख माला तंत्र पर है और इस लेख में एक पृष्ठभूमि देकर लेखक आगे तंत्र के बारे में विस्तार करेंगे।

Read More

The Book I Would Pass To My Children

The Book I would pass to my children would contain no sermons, no shoulds and oughts. Genuine love comes from knowledge, not from a sense of duty or guilt. How would you like to be an invalid mother with a daughter who can't marry because she feels she ought to look after you, and therefore hates you? My wish would be to tell, not how things ought to be, but how they are, and how and why we ignore them as they are. You cannot teach an ego to be anything but egotistic, even though egos have the subtlest ways of pretending to be reformed. The basic thing is therefore to dispel, by experiment and experience, the illusion of oneself as a separate ego. The consequences may not be behavior along the lines of conventional morality.

Read More
Centre For Indic studies
X